OUR LEADERS

Dr.Deepak Jaiswal, National President

Dr.Jaiswal was born 22 May, 1961. After completing his Bachelors degree in Pharmacy Science, he studied Social Science from Guru Ghasidas Univesity from 1985 to 1987. He also earned an honours degree in Ayurved Ratna. By seeing pitable and measurable condition of coal workers, he joined the Indian Trade Union movement in 1982 and thereafter represented workers of India at various national and International forums. He was active member of Chhatisgarh Labour Advisory Council from 2002-2005.

He represented Indian workers on the Standing Committee of Labour, Government of India and Indian Labour Conference since 2003, which is called the labour Parliament of India. he also represented country in the 103rd session of International Labour Conference in Geneva, Switzerland organsed by Inernational Labour Organsation, an agency of United nations Organisation.

 Shri. Subhash Malgi, Chief Secretary General

A trade unionist with past 51 years experience in Trade Union Movement. After joining Dandaranya Bolangir Kiriburu Project, in 1964 at age of 19 years, formed union in 1965 to protect 22 material chasers from losing their job. The union ensured absorption of all 2000 employees of the project into Indian Railways. Similarly he formed Konkan Railway Corporation Employees Union during project days. In 1974 railway strike he was arrested under MISA. He was the youngest member of Joint Consultant Machinery.

 Dr.Pradeep Rai, General Secretary

Shri. Virat Jaiswal, General Secretary

Shri. Jai Narayan Chouksey, Chairman

A social worker from last 40 years working in the field of education & health. Shri. Chouksey is a pioneer to start the very first engineering college in State of Madhya Pradesh. Presently Shri Couksey is a Honorable Chancellor of LNCT University Bhopal, M.P. Apart from education, Shri. Chouksey is providing free Health Care Facility by his 750 bedded Multi Specialty Hospital run by HK Kalchuri Education Trust located at Bhopal. Being Chairman of NFITU Shri Chouksey wants to provide Health and Education Services to the workers and his family at large.

हमारे नेतागण

डॉ.दीपक जायसवाल, राष्ट्रीय अध्यक्ष

डॉ. जायसवाल का जन्म 22 मई 1961 में हुआ था। फार्मेसी में स्नातक करने के पश्चात् उन्होंने गुरू घासीदास विश्वविद्यालय से वर्ष 1985 से 1987 तक सामाजिक विज्ञात की पढाई की। उन्होंने आयुर्वेद रत्न की डिग्री भी हासिल की। कोयला खानों में कार्य करने वाले श्रमिकों की दयनीय स्थिती को देखते हुए, वर्ष 1982 में ये इंडियन ट्रेड यूनीयन/श्रमिक आंदोलन से जुडे तथा उसके बाद विभिन्न राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय मंच पर श्रमिकों का प्रतिनिधित्व किया। वे 2002 से 2005 तक छत्तीसगढ़ लेबर एडवाईजरी काऊंसिल के सक्रिय सदस्य रहे।

इन्होंने भारतीय श्रमिकों का प्रतिनिधित्व, भारत सरकार की स्थाई समिति तथा भारतीय श्रमिक सम्मेलन में 2003 से किया है जिसे भारतीय श्रमिक संसद भी कहते हैं। इन्होंने अंतराष्ट्रीय श्रमिक संगठन (आई.एल.ओ.) जो संयुक्त राष्ट्र संघ की एजेंसी है के द्वारा आयोजित, 103वां अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक सम्मेलन, जिनेवा, स्विट्जरलैण्ड में देश का प्रतिनिधित्व किया।

श्री सुभाष मलगी, मुख्य सचिव जनरल

एक श्रमिक संघवादी जिन्हें श्रमिक आंदोलन का 51 वर्ष का अनुभव है। 19 वर्ष की आयु में वर्ष 1964 में इन्होंने दनदारन्या बोलांगीर किरीबुरू परियोजना में शामिल होकर 22 मजदूरों की सेवाऐं/नौकरी बचाने के लिए 1965 में संगठन तैयार किया। संगठन ने सभी 2000 श्रमिकों की सेवाऐं भारतीय रेल्वे में समाहित किया जाना सुनिश्चित किया। इसी तरह परियोजना के दौरान ही हन्होंने कोंकन रेलवे कॉर्पोरेशन कर्मचारी संगठन की स्थापना की। 1974 की रेलवे स्ट्राईक के समय इन्हें मीशा के तहत गिरफ्तार किया गया। वे संयुक्त सलाहकार समिति के सबसे जवान (छोटे) सदस्य थे।

डॉ. प्रदीप राय, महासचिव

श्री विराट जायसवाल, महासचिव

श्री जय नारायण चौकसे, अध्यक्ष

एक समाजसेवी जो विगत 40 वर्षों से शिक्षा तथा स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। श्री चौकसे मध्यप्रदेश राज्य में प्रथम इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना में अग्रणी रहे हैं। श्री चौकसे एल.एन.सी.टी. विश्वविद्यालय, भोपाल (म.प्र.) के कुलाधिपति हैं। शिक्षा के अलावा श्री चौकसे 750 बिस्तरीय मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल के माध्यम से निःशुल्क स्वास्थ्य सेवाऐं भी उपलब्ध करा रहे हैं जो एच.के.कल्चुरी एजुकेशन ट्रस्ट के अंतर्गत संचालित है। एन.एफ.आई.टी.यू. के अध्यक्ष के रूप में वे वृहद स्तर पर श्रमिकों तथा उनके परिवार को शिक्षा तथा स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराना चाहते हैं।

NFITU’S AGENDA

National Front of Indian Trade Unions (NFITU) lead by Dr.Deepak Jaiswal, President and Chief General Secretary Shri Subhash Malgi have observed as under:

During past many years, the national as well as regional political parties have neglected the issues concerning the workers engaged in organised sector, unorganised sector, government undertakings and the self-employed etc.

The ILO Convention No.87 i.e. Right to Organise Even though ratified by the Government of India, the same is not honoured and also Article No.43A and 19.1.c &g of Constitution of India are not honoured.

It is necessary that political parties should specify their views and their commitment to issues concerning workers of the country. There have been many pieces of legislation with respect to labour in this country.

We are more specific on the issues raised below and expect the political parties to express their views and commitment to evolve machinery to finalize the issues of working class in a time bound manner and in case failure to maintain timeframe then it should attract punitive action against the concerned authority/s.

  • Right to form associations and the right to have collective bargaining.
  • labour participation in management.
  • Commitment and time bound program towards eradication of unemployment and rehabilitation of project affected citizens.
  • Commitment of implementation of contract labour regulation and abolition Act.
  • Commitment to implement principle of Equal Pay for Equal Work in all industries/Categories including to contract workers.
  • To provide adequate social security to all the workforce including farm labour.

एजेन्डा:-

केन्द्रीय श्रमिक संगठन (एनएफआईटीयू) के अध्यक्ष डॉ.दीपक जायसवाल तथा श्री सुभाष मलगी, मुख्य महासचिव के नेतृत्व में यह समीक्षा की गई कि:-

पिछले कई वर्षों के दौरान, राष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय राजनैतिक दलों ने संगठित क्षेत्र, असंगठित क्षेत्र, शासकीय उपक्रमों और स्वयं-नियोजित आदि में कार्यरत श्रमिकों से संबंधित मुद्दों की उपेक्षा की है।

आईएलओ कन्वेंशन नं.8 यानी संगठित करने का अधिकार, भारत सरकार द्वारा अनुमोदित किए जाने के पश्चात् भी, इसे सम्मानित नहीं किया जाता है और भारत के संविधान के अनुच्छेद सं. 3 ए और 19.1 सी तथा जी को भी सम्मानित नहीं किया जाता है।

यह आवश्यक है कि राजनीतिक दलों को देश के श्रमिकों से संबंधित मुद्दों पर उनके विचार और प्रतिबद्धता निर्दिष्ट करनी चाहिए। इस देश में श्रम के संबंध में कानून के कई टुकडे हुए हैं।

हम नीचे उठाए गए विशिष्ट मुद्दों पर गम्भीर हैं तथा राजनैतिक दलों से उम्मीद करते हैं कि वे मजदूर वर्ग के मुद्दों को निश्चित समय-सीमा में अंतिम रूप देने के लिए मशीनरी विकसित करने हेतु उनके विचार और प्रतिबद्धता व्यक्त करें। समय-सीमा की विफलता के मामलों में संबंधित प्राधिकारी के विरूद्ध दंडनीय कार्यवाही आकर्षित की जाना चाहिए।

  • संगठित करने का अधिकार एवं सामूहिक सौदे का अधिकार
  • प्रबंधन कार्य में श्रमिकों की भागीदारी सुनिश्चित हो
  • परियोजना प्रभावित नागरिकों की बेरोजगारी तथा पुनर्वास की समस्या का समयबद्ध निराकरण हेतु प्रतिबद्धता
  • अनुबंधित श्रमिकों के लिए Contract Labour Regulation and Abolition Act लागू करने हेतु प्रतिबद्धता
  • समान कार्य-समान वेतन की नीति समस्त उद्योगों/वर्गों (अनुबंधित श्रमिकों सहित) के लिए लागू करने हेतु प्रतिबद्धता
  • कृषी क्षेत्र से जुडे श्रमिकों सहित सम्पूर्ण श्रमिक वर्ग को समुचित सामाजिक सुरक्षा प्रदान किया जाने की प्रतिबद्धता

 

OUR FOUNDERS

Shri. S.P. Rai

Late Shri. S.P. Rai was great Indian trade unionist and Politician. By the effort of Shri.S.P. Rai & Shri.Narendra Sen NFITU came in the Existence in the year 1969. Shri. Rai has elected as MLA from Bihar State several times and was also served as a Minister of Health, Government of Bihar.

Shri.George Fernandes

A dynamic trade unionist George Fernandes has been founder member and president of Hind Mazdoor Kisan Panchayat (HMKP). He has very clear vision that union should be engaged in social reforms and not limited itself only to economic demands of organsed working class. He is strong supporter of great socialist thinker Shri. Ram Manohar Lohia. His thinking emphasises on “employment oriented policies based on Indigenous, self-reliance and co-operation”. With hundreds of strikes and rail rokos he was the most formidable labour union leader in India. He came to be actively associated with the late Dr.Ram Manohar Lohia, the great Socialist thinker. The 1974 Indian Railway strike under his leadership oguth to be mentioned whenever George Fernandes is talked about. The impact of the strike was so much that it was one of the cause for declaring ‘Internal Emergency’ in 1977 by the then Prime Minister, Smt. Indira Gandhi. he again won the Lok Sabha Elections from behind the bars in Tihar Jail. He has served the country as minister in Central Government as Industrial Minister, Railway Minister and defense Minister.

A ‘would be Priest’ turned labour leader turned politician Shri George Fernandes is on the bed for last more than seven years suffering from ‘Alzheimer’ Yet he is active through is hard core cadre who are carrying on his work vision through HMKP.

 

हमारे संस्थापक

श्री एस.पी. राय

स्व. श्री एस.पी. राय महान श्रमिक नेता तथा राजनैतिज्ञ थे। श्री एस.पी.राय एवं श्री नरेन्द्र सेन के प्रयासों से एन.एफ.आई.टी.यू. संगठन वर्ष 1969 में अस्तित्व में आया। श्री राय, बिहार राज्य से कई बार एम.एल.ए. निर्वाचित हुए और बिहार शासन में स्वास्थ्य मंत्री भी रहे।

 

श्री जॉर्ज फर्नाडीज

एक ऊर्जावान श्रमिक नेता तथा राजनैतिज्ञ जो ‘‘हिन्द मजदूर किसान पंचायत’’ संगठन के संस्थापक सदस्य थे। उनका स्पष्ट दृष्टिकोण था कि संगठन/यूनीयन को केवल आर्थिक माँगों तक ही सीमित ना रहते हुए संगठित श्रमिक वर्गों का सम्पूर्ण सामाजिक उत्थान के लिए कार्य करना चाहिए। वे महान सामाजिक विचारक श्री राम मनोहर लोहिया जी के समर्थक रहे। उनकी सोच, स्वदेशी, आत्मनिर्भरता और सहयोग पर आधारित रोजगारोन्मुखी नीतियों पर जोर देती थी। इस क्रांतीकारी श्रमिक नेता के नेतृत्व में सैकडों की संख्या में हडताल तथा रेल रोको आंदोलन किए गए। सन् 1974 में जॉर्ज फर्नांडीज के नेतृत्व में की गई भारतीय रेलवे हडताल हमेश उनकी याद दिलाएगी। उनकी इस हडताल का असर इतना अधिक था कि सन् 1977 में प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी द्वारा लगाई गई इमरजेंसी का भी एक कारण रहा। तिहाड जेल में रहते हुए भी उन्होंने पुनः चुनाव जीता। उन्होंने केन्द्र में उद्योग मंत्री, रेलवे मंत्री व रक्षा मंत्री के रूप में देश की सेवा की।

श्रमिक नेता से राजनैनिज्ञ बने, अध्यात्म की ओर बढ़ते हुए अलझाईमर रोग से ग्रसित होने के कारण वे पिछले सात वर्षों से बिस्तर पर हैं। फिर भी वे उनके द्वारा संस्थापित संगठन ‘‘एच.एम.के.पी.’’ के माध्यम से अपने दृष्टिकोण पर कार्यरत् हैं।

 

BOARD OF PATRON

Hon’ble Shri Sharad Pawar (Chief Patron)

Shri Pawar is the founder and President of the Nationalist Congress Party (NCP) since 1999. He has held key positions both in the state politics and at national level. He has served as Chief Minister of Maharashtra and also as Defence Minister of India and Minister of Agriculture.

Hon’ble Dr.Udit Raj

Dr.Udit Raj is an Indian Member of Parliament in the Lok Sabha, representing the North-west Delhi constituency. Dr.Raj is also the National Chairman of the All India Confederation of SC/ST Orgnizations. He is influential leader for the Bharatiya Janata Party as well as nationally as a social activist for Dalits. Dr.Udit Raj is a member to the BJP National Executive.

Hon’ble Dr.Arun Kumar

Dr.Arun Kumar is a Member of Parliament in India. He represents the Jahanabad constituency in the Lok Sabha. Dr.Arun Kumar has been a Bihar State President of the Rashtriya Lok Samta Party.

 

Hon’ble Shri Ajay Nishad

Ajay Nishad is a Member of Parliament from Muzaffarpur (Lok Sabha constituency). He won the Indian general election, 2014 being an Bharatiya Janata Party candidate.

 

संरक्षक बोर्ड

माननीय श्री शरद पवार (मुख्य संरक्षक)

श्री पवार, सन् 1999 से नेशनलिस्ट काँग्रेस पार्टी (एन.सी.पी.) के संस्थापक एवं अध्यक्ष हैं। राज्य एवं राष्ट्रीय राजनीति में उनकी प्रमुख्य भूमिका है। श्री पवार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे तथा केन्द्र में भारत के रक्षा मंत्री तथा कृषि मंत्री के रूप में भी सेवा की है।

माननीय डॉ. उदित राज

डॉ.उदित राज, लोकसभा में सांसद सदस्य हैं जो नार्थ-वेस्ट दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। डॉ.राज, अखिल, भारतीय अ.जा./अ.ज.जा. महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। ये भारतीय जनता पार्टी के एक प्रभावशाली नेता हैं तथा राष्ट्रीय स्तर पर दलितों के लिए सामाजिक कार्य कर रहे हैं। डॉ. राज, भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारी समिति के सदस्य हैं।

माननीय डॉ.अरूण कुमार

डॉ.अरूण कुमार लोकसभा में जहानाबाद निर्वाचन क्षेत्र से सांसद हैं। बिहार की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष रहे हैं।

माननीय श्री अजय निषाद

श्री अजय निषाद मुजफ्फरपुर निर्वाचन क्षेत्र से सांसद सदस्य हैं। उन्होंने भारतीय आम चुनाव 2014 में भारतीय जनता पार्टी से प्रत्याशी के रूप में जीत हासिल की है।