OUR OBJECTIVES :

To organise and unite trade unions with the object of building up a National Central Organization of trade unions, independent of political parties, employers and the government, to further the cause of labour and that of national solidarity, security and defense of India and to make the working people conscious of their rights as well as of obligations of all spheres of life.

To secure to members of trade unions full facilities of recognition and effective representation of interest of workers and to ensure for the working people fair conditions of life and service and progressively to raise their social, economic and cultural state and conditions;

To help in every possible way member trade unions in their fight to raise real wages of the workers; and

To Endeavour to secure for members of affiliated trade unions adoption of progressive legislation for their welfare and to ensure the effective enforcement of the rights and interests of members of affiliated trade unions and for the working people in general.

To assist in Employment and other related services to the people of India.

To ensure the implementation of apprenticeship act by Employers.

To ensure the implementation of Compulsory notification of Vacancies act by the employers.

To promote training in different areas of employability and facilitate skills development in youth.

To promote and aid and open educational institutes and colleges that work towards increasing employability and skill development.

To promote and provide free education to increase employability through skill development with the help of various government schemes.

To create more employment opportunities and secure the rights of workers at work.

To promote worker education and right at work place.

To enhance the coverage of welfare policies and schemes of the government for women and children.

To strengthen the social protection of the workers.

To maintain the relationship between the workers, employers and the government.

To ensure occupational safety and health at the work place.

To enhance social dialogue on labour governance.

To promote awareness about HIV AIDS at among workers at work place.

To create Social Security of workers of unorganised sector.

हमारे उद्देश्य :

  • राष्ट्रीय स्तर पर केन्द्रीय श्रमिक संगठन के गठन के उद्देश्य के लिए समस्त श्रमिक संगठनों को एकत्रित कर एक साथ लाना, राजनैतिक पार्टियों, नियोक्ताओं, शासन से परे होकर, श्रमिकों के हित के लिए तथा मजबूत राष्ट्र के निर्माण तथा राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए तथा श्रमिक वर्ग के कामगारों को उनके अधिकार तथा जीवन के सभी क्षेत्रों में उनके दायित्वों के प्रति जागरूक करना।
  • ट्रेड यूनीयनों को मान्यता, सदस्यता एवं प्रभावी प्रतिनिधित्व में संरक्षण प्रदान करना तथा श्रमिक वर्गों के सामाजिक उत्थान, आर्थिक उन्नति एवं उज्जवल भविष्य सुनिश्चित करना।
  • ट्रेड यूनीयन के समस्त सदस्यों के वेतनवृद्धि की लडाई में हरसंभव सहयोग करना।
  • संबद्ध ट्रेड यूनीयनों तथा उनके सदस्यों के कल्याण हेतु प्रगतिशील कानून को अपनाते हुए उनके अधिकारों को सुनश्चित करना।
  • भारत के लोगों को रोजगार और अन्य संबंधित सेवाओं में सहायता करने के लिए नियोक्ताओं द्वारा शिक्षुता apprenticeship अधिनियम के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए
  • नियोक्ताओं द्वारा रिक्तियाँ अधिनियम की अनिवार्य अधिसूचना के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए
  • रोजगार के विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण को बढ़ावा देने तथा युवाओं में कौशल विकास की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए
  • रोजगार और कौशल विकास में वृद्धि के लिए शैक्षणिक संस्थानों तथा कॉलेज खोलने में प्रोत्साहन के लिए
  • विभिन्न सरकारी योजनाओं की सहायता से, कौशल विकास के माध्यम से रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए
  • निःशुल्क शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए
  • अधिक रोजगार के अवसर बनाने और कार्यस्थल पर श्रमिकों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए
  • कार्यस्थल पर श्रमिकों की शिक्षा/ प्रशिक्षण तथा उनके अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए
  • महिलाओं और बच्चों के लिए सरकार की कल्याणकारी नितियों और योजनाओं के कवरेज को बढ़ावा देने के लिए
  • श्रमिकों की सामाजिक सुरक्षा को मजबूत करने के लिए
  • श्रमिकों, नियोक्ताओं और सरकार के मध्य संबंध बनाए रखने के लिए
  • कार्यस्थल पर व्यावसायिक सुरक्षा और स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए
  • श्रम शासन पर सामाजिक वार्तालाप बढ़ाने के लिए
  • श्रमिकों के बीच कार्यस्थल पर एचआईव्ही एड्स के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना
  • असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की सामाजिक सुरक्षा के लिए